Skip to main content

Followers

लोकसभा चुनाव में आचार संहिता

लोकसभा चुनाव के लिए आचार संहिता लागू होते ही नगर निगम के अतिक्रमण शाखा अमला द्वारा चौक चौराहों में लगे पोस्टर बैनर हटाए जाने लगे है l क्या आपको इसकी जानकारी है कि ऐसा कौन सा अधिनियम है जिसके तहत यह कार्यवाही की जाती है ? 

छत्तीसगढ़ संपत्ति विरूपण निवारण अधिनियम, 1994 (इस अधिनियम का अनुकूलन छत्तीसगढ़ राज्य द्वारा कर लिया गया है
भारत गणराज्य के पैंतालीसवें वर्ष में मध्य प्रदेश विधान मण्डल द्वारा निम्नलिखित रूप में यह अधिनियमित होः-

1. (1) इस अधिनियम का संक्षिप्त नाम छत्तीसगढ़ संपत्ति विरूपण निवारण अधिनियम, 1994 है।

(2) इसका विस्तार संपूर्ण छत्तीसगढ़ पर है।

2. इस अधिनियम में, जब तक संदर्भ से अन्यथा अपेक्षित न होः-

(क) 'विरूपण के अंतर्गत आता है रूप या सौदर्य का ह्रास करना या उसके साथ हस्तक्षेप करना, उसे नुकसान पहुंचाना विदूषित करना, खराब करना या अन्य किसी प्रकार की चाहे वह कैसी भी हो, उसे क्षति पहुचाना और शब्द "विरूपित करना" का अर्थ तद्‌नुसार लगाया जाएगा,

(ख) "सपत्ति" के अंतर्गत आता है कोई भवन, झोपडी, सरचना, दीवार, वृक्ष, बाड़, खंबा (पोस्ट), स्तम्भ (पोल) या कोई अन्य परिनिर्माण,

(ग) लिखावट" के अतर्गत आता है स्टेंसिल द्वारा की गई सजावट, अक्षरो की लिखाई या अलंकरण आदि।

3. कोई भी जो संपत्ति के स्वामी की लिखित अनुज्ञा के बिना सार्वजनिक दृष्टि में आने वाली किसी संपत्ति को स्याही, खड़िया, रंग या किसी अन्य पदार्थों से लिखकर या चिन्हित करके उसे विरूपित करेगा वह जुर्माने से, जो एक हजार रूपये तक का हो सकेगा, दण्डनीय होगा

4. इस अधिनियम के अधीन दण्डनीय कोई भी अपराध संज्ञेय होगा।

5. धारा 3 के उपबन्धों पर प्रतिकूल प्रभाव डाले बिना, राज्य सरकार इस बात के लिए सक्षम होगी कि वह ऐसे उपाय करे जो कि किसी लिखावट को मिटाने किसी विरूपण से मुक्त कराने या किसी चिन्ह को हटाने के लिए आवश्यक है और उस पर उपगत हुए व्यय ऐसी लिखावट करने, विरूपण करने या चिन्ह बनाने के लिए दोषी पाये जाने वाले व्यक्ति से भू-राजस्व बकाया के रूप में वसूलीय होंगे

6. इस अधिनियम के उपबन्ध तत्समय प्रवृत्त किसी अन्य विधि में अंतर्विष्ट किसी प्रतिकूल बात के होते हुए भी प्रभावी होंगे।

वाजिब सवाल: 

१) क्या हरेक राज्यों के लिए इस संदर्भ में अलग -अलग अधिनियम बनाने की आवश्यकता है ? यदि हां तो क्या उसके तथ्य समान है ? 

२) विधिविरुद्ध कार्याचरण की लिखित शिकायत किनको करें? 

३) यदि कोई संबंधित शिकायत थानें में कराना चाहे तो क्या अन्य मामलों की तरह थाने का भारसाधक अधिकारी शिकायत पर पुलिस शिकायत दर्ज करेगा अथवा प्रथम सूचना रिपोर्ट लिखेगा?

उपसंहार: आचार संहिता का पालन करें 

Comments

Popular posts from this blog

बिलासपुर : सिम्स के डॉक्टरों ने गंभीर रूप से घायल बच्ची को मौत के मुंह से निकाला सफल इलाज के बाद अस्पताल से मिली छुट्टी

  बिलासपुर , 11 जनवरी 2024 सिम्स के डॉक्टरों द्वारा सड़क दुर्घटना में गंभीर रूप से जख्मी हुई 6 वर्षीय बच्ची का सफल उपचार किया गया। दुर्घटना के कारण बच्ची को गंभीर चोट लगी थी। श्वास लेने में दिक्कत सहित कई परेशानियां आ रही थी। उसके बचने की संभावना भी बहुत मुश्किल बताई जा रही थी। सिम्स के उप अधीक्षक श्री विवेक शर्मा ने बताया कि जिले के बिल्हा निवासी आदिवासी किसान श्री विनोद मरकाम अपनी 6 वर्षीय पुत्री विधि और अन्य लोगों के साथ पखवाड़े भर पूर्व बाईक पर निकले थे। रास्ते में जाते हुए कुछ समय पश्चात बाईक की टक्कर सामने से आ रही ट्राली से हो गयी जिसमें बाईक सवार सभी लोग घायल हो गए। घायलों को तुरंत सिम्स रेफर किया गया , जिसमें सबसे ज्यादा गंभीर 6 वर्षीय बच्ची थी जिसका जबड़ा एवं हाथ टूट चूका था और जीभ , गाल पूरी तरह से फट गया था। बच्ची बेहोश थी और खून का बहाव रूक नहीं रहा था और सांस नहीं ले पा रहा थी बच्ची का बचना बहुत ही मुश्किल था।  उसे तत्काल शिशुरोग विभाग , सिम्स के गहन चिकित्सा ईकाई में डॉ. राकेश नहरेल एवं टीम की देख-रेख में भर्ती किया गया। खून का बहाव रोकने के साथ ही , तुरंत प्रभाव से

बिलासपुर : संभागायुक्त श्रीमती शिखा राजपूत तिवारी ने की शासकीय योजनाओं की समीक्षा

 बिलासपुर, 15 जनवरी 2024 कमिश्नर श्रीमती शिखा राजपूत तिवारी कमिश्नर श्रीमती शिखा राजपूत तिवारी ने आज संभाग स्तरीय अधिकारियों की बैठक लेकर शासकीय योजनाओं की प्रगति की समीक्षा की। उन्होंने शासकीय योजनाओं और कामों को गंभीरता से लेते हुए उनकी सतत निगरानी करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि योजनाओं से मैदानी स्तर पर लोगों के जीवन स्तर में बदलाव परिलक्षित होना चाहिए। श्रीमती राजपूत तिवारी ने कहा कि शासन स्तर पर यदि कोई मामला लंबित है तो इसकी जानकारी दें ताकि फॉलो अप कर जल्द स्वीकृत अथवा निराकरण किया जा सके। उन्होंने अधिकारियों को आपसी समन्वय के साथ काम करने के निर्देश दिए ।  आपसी समन्वय बनाकर गंभीरता से करें योजनाओं की मॉनिटरिंग   श्रीमती राजपूत तिवारी के कार्यभार ग्रहण करने के उपरांत अफसरों की यह पहली आधिकारिक बैठक थी। उन्होंने सबसे पहले अधिकारियों से परिचय प्राप्त किया और शासकीय योजनाओं की प्रगति के बारे में जानकारी ली। श्रीमती तिवारी ने कहा शासन की जो प्राथमिकता है वह उनकी भी प्राथमिकता है, और उनका तेजी से अमल होना चाहिए। उन्होंने विभागवार प्रमुख योजनाओं और कार्यक्रमों की समीक्षा की। श्र